text_decrease text_normal text_increase

GRAVIT (YOUTH FOR RURAL DEVELOPMENT)

 (Website link for Volunteers Registration : GRAVIT)


logo

The Background

 

The youth constitute a sizable segment of the rural population of India, so is true in case of Haryana. They are full of energy and if it is channelized for human, social, cultural and economic development programmes, the pace of development would be accelerated. It is all the more important to utilize their energy when a sizable segment of the rural society has been gripped by social evils like alcohol abuse, drug addiction, female, atrocities on women and petty crimes. Besides, the youth can be converted into an important resource for accelerating the pace of development. They can also play an important role in the mobilization of community for the all round development of the village community.

Past Experience

Many evaluation studies have pointed out the gaps in implementation of the programmes which have been adversely affecting the delivery of benefits to the intended beneficiaries. The Gram Panchayats are the lowest level in the hierarchy of Panchayati Raj Institutions. They are expected to prepare and implement plans for economic development and social justice. The welfare and development programmes of the state government as well as centrally sponsored schemes are also to be implemented by them. But these are poorly equipped with manpower. The dedicated youth volunteers can be good Human Resource of motivating the village community in enlarging the scope of participatory approach. Secondly, the social and economic development fails to achieve the desired results on account of in adequate participation of community.

The Ministry of Rural Development had created a cadre of Bharat Nirman Volunteers for creating awareness among community on central sponsored schemes. But these experiments have not given desired results owing to lack of proper selection, inadequacy in their capacity building and lack of motivation among them. This is the rationale behind the launching of the innovative scheme of Youth for Development.

           

Development of Human Capital

A major problem that has become a cause of grave concern in India is the increasing gap between the urban and rural segments in the fields of education and health. Nearly 30% of the rural population still remains illiterate and about 50% of children below the age of 3 years suffer from malnutrition. Due to the lack of awareness about and the access to family planning measure particularly among the illiterate rural households, the problem of population explosion has assumed an alarming proportion. Besides, the infant mortality rate in the country also remains at 45 per 1000 live births. Although, the government has been implementing many programmes for improving the status of health and education of the rural population, the rural masses have not been able to derive adequate benefit from these. Their outreach can be enhanced only through the active participation of the community. The village youth can play an important role in the mobilization of the community for the effective implementation of the above programmes. Thus, their involvement can be an important resource for the development of human capital.

 

logo

logo

Vision

The vision behind enrolment of youth is to build up their capacity so that they could Act as facilitators and motivators in bring about paradigm shift in Social Human, and Economic Development of village community. Volunteers can act as change facilitator for wholistic & harmonious economic & human development.

Key Functional Areas for youth

The youth can play an important role for the following tasks:-

Ensuring people's participation through the involvement of different sections of society in all aspects related to the village life.

1.      To help the weaker sections of the society in achieving their well-being

2.      Promoting gender justice

3.      Ensuring respect for women

4.      Promoting social justice

5.      Including the culture of hygiene and cleanliness

6.      Preserving and promoting local cultural heritage

7.      Including mutual corporation and spirit of self-help & self-reliance

8.      Creating peace and harmony in the village community

9.      Promoting transparency and accountability

10.   Enhancing probity in public life

11.   Strengthening Panchayati Raj

12.   Creating awareness on Fundamental Duties

Role of Volunteers

Creating awareness on the Social issues:-

·         Improving Health indicators-Child Sex Ratio/IMR/MMR/Immunization

·         Enhancing Nutrition and Checking Anaemia

·         Promoting Sanitation & Hygiene

·         Improving Literacy & Educational Standards

·         Reducing dropout rate in Schools

·         Checking Alcoholism, Smoking, Drug Abuse etc.

·         Promoting the interest of the weaker Section

·         Building Peace & Harmony in various social groups

·         Preventing atrocities on the women and  weaker sections

Facilitating Economic Activities

·         Creation of Awareness on job opportunities in Govt. Schemes, Banks, Small Scale Industries, Animal husbandry and Private Sector

·         Dissemination of Information on Skill Development

·         Promotion of Diversified Agriculture including Horticulture Development

·         Livestock & dairy development

Promoting sustainable development through awareness on the following:-

·         Conservation of water

·         Prevention of soil degradation

·         Watershed management

·         Solid & liquid waste management

·         Environment protection

 

Motivational aspects

·         Motivational villagers to become responsible citizens

·         Encouraging them for payment of taxes, electricity/water bills

·         Promoting in them the quest for protection of community assets

Values

·         Sense of ownership of village community

·         Collective responsibility to participate in development activities

·         Promotion of mutual co-operation

·         Fostering of brotherhood & social harmony

·         Developing pride in their cultural & social heritage

Assisting to Gram Sabha in:-

·         Social audit

·         Social inclusion

·         Integration of disadvantage sections

·         Mobilizing participation to achieve objective of social audit

Eligibility for enrolment as volunteer

·         Commitment to the values of the scheme

·         Dedication towards the role under it

·         Age between of 18 to 35 years

·         Education up to senior secondary level

·         Permanent resident of the village

·         Computer literacy

Selection Process

·         Volunteers will have to give an undertaking to work as per the spirit of the programme

·         She/he has to work for a minimum of 1 year and maximum 3years period

·         At least 30% of them will be females

·         At least 20% of them will be from SCs and other weaker section

Duration of voluntary work

·         The enrolment may be for a period of minimum one year and maximum three years

·         After three years it can be extended based on the performance

·         A certificate will be issued to them after satisfactory completion of three years

Enrollment Procedure

·         Every youth in the age group of 18-35 years who is a permanent resident of the village can apply for online enrollment on the website or send her/his application to concerned BDPO offices

 

Training

·         The volunteer shall be provided five-days training on her/his role in various government programme.

·         One-day Refresher Training Programme in a year

·         Four Exposure Visits per year to other States for the best volunteers

·         One Exposure visit per District for within the State of Haryana

Areas for Capacity Building

·         Developing Communication Skill

·         Knowledge of drafting procedure

·         Awareness on Government Scheme and their  guidelines

·         Computers knowledge and its application

·         Character building

Number of Volunteers

·         Estimated number of Volunteers will be 10 per Panchayat estimated total no of volunteers will be 62137

Identity Card

·         Every Volunteer shall be provided with an Identity Card with her/his photograph which shall be valid for the specific period

Self Appraisal Report/monthly report

·         Every Volunteer will have to submit a Self-Appraisal Report on the prescribed Performa about her/his role in the discharge of duties.

·         The Volunteers will also have to submit their Monthly Activity Report to concerned BDPO

Outcome

·         Empowerment of youth for development

·         Capacity building in the area of their interest

·         Development of their potential for the Encouragement of Stakeholders

·         Enablement to extent support to the C.B.O.

·         Development to leadership qualities in them.

·         Capacity for team work

ग्रवित गतिविधि कैलेंडर -2020

महीना

              समर्पित

जनवरी

स्वच्छता  एंव  खेल-कूद प्रतियोगिताए |

फ़रवरी

ग्रामीण विद्यार्थियो के लिए मुफ्त कोचिंग कक्षाए |

मार्च

बेटी बचाओ – बेटी पढ़ाओ एंव महिला सशक्तिकरण |

अप्रैल

सामाजिक समरसता अभियान |

मई

हर बच्चा जाए स्कूल , घर बैठाने की ना  करना भूल |

 (100 प्रतिशत स्कूल मे दाखिला)

जून

पानी बचाओ अभियान |

जुलाई

पोधा रोपण अभियान |

अगस्त

ग्राम गौरव से राष्ट्र गौरव की ओर एंव

स्वास्थ्य के प्रति जागरुकता अभियान |

सितम्बर

शहीदो को  श्रद्धाजली एव सेनानियो की प्रति कृतज्ञता |

अक्तूबर

पर्यावरण ( हवा ,पानी, मिट्टी ) के प्रति जागरुकता अभियान |

नवम्बर

हरियाणा को जानो - देश को जानो

दिसम्बर

आवश्यक दस्तावेजो के बारे मे जागरूकता अभियान जैसे आधार कार्ड, पैन कार्ड, वोटर कार्ड, बैंक खाता, जीवन बीमा, स्वास्थ्य बीमा, फसल बीमा आदि |

वर्ष भर चलने वाली गतिविधियां

1

विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा ग्रामीण विकास     के लिए चलाई जा रही योजनाओ की जानकारी देना व जागरूकता फैलाना |

2

15 अगस्त, 26 जनवरी एवं  2 अक्तूबर को होने वाले सरकारी कार्यक्रमों मे बढ़-चढ़ कर भाग लेना व युवाओ में अनुशासन व देश सेवा का संकल्प बढ़े इस के लिए प्रोत्साहित करना |

3

नौकरियों के स्थान पर रोजगार के अवसर खोजने के लिए युवाओ को प्रोत्साहित करना |

4

रक्तदान शिविरो का आयोजन करना व रक्त दान की लिए इच्छुक  volunteers की  हर जिलेवार  निर्देशिका नाम, पता, ब्लड ग्रुप व फोन नंबर  के साथ तैयार करना |

5

खेती के लिए नई तकनीको का प्रयोग व  पारंपरिक खेती के साथ बागवानी, वनस्पतियो की खेती आदि की तरफ भी बढ़ने के लिए किसानो को प्रेरित करना जिससे किसान खेती से होने वाली अपनी आय को बढ़ा सके

6

सौर ऊर्जा के प्रति जागरूकता बढ़ाना |

7

समाज में वृद्धो का मान-सम्मान व उन की देखभाल बढ़े इस के लिए युवाओ  को प्रेरित करना |

8

भारतीय त्योहारो को पूरे उत्साह के साथ मनाने के लिए समाज को प्रेरित करना |

9

महापुरुषो की जयंती को समाज के साथ मिल कर मानना |

10

प्रत्येक गाँव 7 स्टार स्कीम के तहत अधिक से अधिक स्टार अर्जित करे इसके लिए पंचायत एवं समाज के साथ मिल कर प्रयास करना |

11

ग्रवित योजना से नये  जुडने वाले volunteers के लिए पाँच दिवसीय ट्रेनिंग कार्यकर्मों को आयोजन करना |

12

हर गाँव का ग्राम गौरव दिवस पंचायत के साथ मिल कर तय करवाते हुये उस दिन गाँव मे उत्सव मनाने के लिए समाज को प्रेरित करना |

13

वर्ष मे एक बार प्रत्येक जिले मे ग्रवित Volunteers का जिला स्तर के  सम्मेलन का आयोजन करना एवं वर्ष मे एक बार  ग्रवित Volunteers का राज्य स्तरीय सम्मेलन का आयोजन करना |

 

   

 

ग्रामिण विकास के लिए तरूण (हिन्दी)

हमें ऐसे युवा चाहिये जो अपने देष के लिए प्रत्येक चीज का त्याग और बलिदान कर सकते हों। हमें पहले उनकी जिन्दगी बनानी है और तब कुछ यर्थात कि अपेक्षा कर सकते हैं।

स्वामी विवेकानन्द

युवा शक्ति का ग्रामिण हरियाणा के सांस्कृतिक और आर्थिक विकास के लिए सकारात्मक प्रयोग करने की आवश्यकता है। हमारा उद्ेश्य युवाओं को ज्यादा सक्षम, उतरदायी और कौशल पूर्ण बनाना है।

मनोहर लाल, मुख्यमंत्री, हरियाणा

ग्रवित

ग्राम विकास हेतु युवा

भारत देश युवाओं का देश है जिसमें 40 प्रतिशत जनसंख्या 25 वर्ष से नीचे की है और 65 प्रतिशत जनसंख्या 35 वर्ष से कम आयु की है। आज जरुरत है युवा शक्ति को अपनी प्रतिभा को आगे लाने या उभारने की और उन्हें यह अवसर दिया जाए ताकि युवा हमारी प्रगति में सकारात्मक योगदान अदा कर सके। युवा पीढी नए विचारों की संग्रह/स्त्रोत हो सकती है।

हमें अपने देश के युवाओं की उर्जा को सही दिशा में अग्रसर करने की आवश्यकता है। युवा शक्ति गांव में सामाजिक उत्थान एवं बदलाव में काफी योगदान दे सकती है।

लिंग भेद व स्त्री जाति के प्रति अपराधों में हमारे युवाओं के सोचने का ढंग और उनका व्यवहार बदलने में अहम है क्योंकि युवा शक्ति अपने चारों तरफ के वातावरण से सन्तुष्ट नहीं है और बडे बदलाव की अपेक्षा करती है।

युवाओं को इस बदलाव की आकांक्षा को दिशा देने के लिए सरकार प्रतिबद्व है जिसमें युवा शक्ति महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है।

1.    पृष्ठ भूमिः-

सरकार ग्रामीण क्षेत्रों में बहुत बडे स्तर पर भिन्न-भिन्न कार्यक्रम क्रियान्वित कर रही है, परन्तु उन कार्यक्रमों को लागू करने में सुधार की आवश्यकता है। सामान्यतः यह प्रतीत होता है कि हमारे ग्रामीणों को विभिन्न विभागों, बैंको और गैर सरकारी संस्थाओं के द्वारा दिये जाने वाले कार्यों की समुचित जानकारी नहीं है अथवा वे ग्रामीणों की पहुंच से दूर है। ऐसा महसूस किया जाता है कि प्राशिक्षित युवा एक महत्वपूर्ण कडी के रूप में कार्य कर सकते हैं।

इसलिए सरकार ने एक नये कार्यक्रम ‘ग्रामीण विकास के लिए तरूण‘ (ग्रवित) नाम से योजना को प्रारम्भ किया है। इस योजना का उद्धेश्य युवाओं की शक्ति को गांव के विकास में तेजी लाने के लिए एक उत्प्रेरक के रूप में इस्तेमाल करना है। इस कार्यक्रम के अंतर्गत गांव के युवाओं का स्वयं सेवक के तौर पर चयनित कर प्रशिक्षित किया जाएगा। इस प्रयास में समाज के सभी वर्गों के युवा पुरुष व महिलाओं को सम्मिलित किया जाएगा।

इस योजना की शुरुआत 12 जनवरी 2015 को श्री विवेकानन्द जी के जन्म की वर्षगांठ पर झज्जर से की जा चुकी है। श्री विवेकानन्द जी ने समाज की भलााई के लिए अपना युवाकाल बलिदान कर दिया था।

2.    दृष्टिकोण

ग्रवित योजना का उद्देश्य हमारे युवाओं को स्वयंसेवक बनाने और उन की क्षमता को विकसित करके गांव के सामाजिक-आर्थिक विकास के लिए प्रेरक के रूप् में प्रयोग करना है।

3.    युवाओं (स्वयंसेवक) का योगदान

युवा स्वयं सेवक गांव में पंचायत या अन्य सामाजिक संस्थाओं/समुदायों के साथ सहयोग करके सरकार की ग्राम सभा/पंचायतों की विभिन्न योजनाओं में तालमेल बैठाएगें।

उनके प्रमुख कार्य निम्नलिखित रहेंगेः-

समाज में परिवर्तन के एजेंट

आर्थिक विकास में योगदान

जगरूकता के माध्यम से टिकाऊ विकास में योगदान

ग्रामीणों को जिम्मेदार नागरिक बनाने के लिए प्रोत्साहित करना      

 

 

ग्राम सभा को सहयोग देना

  1. के लिए चयन नामाकंन का आधार

प्रक्रिया

5      स्वयंसेवी से आष्वासन

बिना किसी वेतन के कार्य करने की प्रतिबद्धता जैसाकि कार्यक्रम का सिद्धांत एवं भावना है।

6     सही देखभाल और मूल्यांकन

7     परिणाम

यह आशा की जाती है कि यह योजना युवा व ग्रामीण लोगों का सशक्तिकरण करेगी। यह उन्हें न केवल टीम सदस्य बल्कि टीम लीडर बनाएगी। ये उपेक्षा की जाती है कि युवा स्वयंसेवक गांव के सामाजिक-आर्थिक विकास को नई गति देगें जिस का सामाजिक और स्वास्थ मानकों पर सकारात्मक प्रभाव पढेगा।